विद्युत कर्मचारियों ने केंद्र सरकार के निजीकरण का काली पट्टी लगाकर किया विरोध

कलयुग की कलम/योगेश योगी/ सतना

समीपस्थ तहसील में विद्युत कर्मचारी जनता यूनियन नागौद/मैहर के बैनर तले नागौद विद्युत कार्यालय में केंद्र सरकार के विद्युत वितरण एवं अन्य कार्यों को निजी हाथों में सौंपे जाने पर रोष व्यक्त किया साथ है वर्किंग आवर 8 घण्टे से 12 घण्टे किये जाने का भी विरोध किया। अध्यक्ष नवीन निगम ने कहा कि निजीकरण होने से रोजी रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा साथ ही मजदूरों  को अपना परिवार सम्हालने के लिए साप्ताहिक अवकाश मिलने की जगह चार अतिरिक्त घण्टे काम को बढ़ाना यह अमानवीय फैशला है। यह मानव अधिकारों के खिलाफ है। सभी ने नीतियों का खुलकर एक स्वर में विरोध किया साथ ही  

अगर इसे रोका न गया तो आंदोलन की भी चेतावनी दी गई। बैठक में सोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नवीन निगम  अध्यक्ष, अमर सिंह प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य,परस प्रसाद,नारायण दीन, सुरजदीन कुशवाहा, मूलचंद , कौशलेंद्र जसो,जीपी द्विवेदी जसो, डी डी पांडेय,रामदीन रजक,अशोक सिंह सिंहपुर,अख्तर हुसैन,मुन्नीचन्द पटेल,सुग्रीव साहू, मुख्तार अहमद, रामविहारी बागरी,मैहर से अखिलेश गौत्तम, एमपी त्रिपाठी, पीके श्रीवास्तव आदि रहे। अन्त में अमर सिंह क्षत्री ने पूर्ण सहयोग देने के लिए प्रदेश सचिव एम पी मिश्रा, सुग्रीव यादव प्रदेश अध्यक्ष के प्रति आभार प्रकट किया।

Share To:

Post A Comment: