देशवासियों को कोरोना से नहीं सरकार से ज्यादा खतरा.. शिव सिंह

डॉक्टरों की याचिका पर सरकार की दलील निंदनीय

सांसदों का वेतन बढ़ाने रुपए हैं चिकित्सकों  को वेतन देने नहीं

कलयुग की कलम 

 रीवा 13 जून 2020.. कोविड-19 के खिलाफ जंग लड़ रहे प्रथम पंक्ति के योद्धा  चिकित्सकों की समस्याओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर एक याचिका पर केंद्र सरकार  की ओर से जो गैर जिम्मेदाराना पक्ष रखा गया उसकी कड़ी निंदा करते हुए समाजवादी नेता कौशल सिंह मीसाबंदी बृहस्पति सिंह राष्ट्रीय मतदाता जागृति मंच के प्रदेश अध्यक्ष मास्टर बुद्धसेन पटेल जनता दल सेक्यूलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव रामायण सिंह अपना दल के प्रदेश अध्यक्ष बद्री प्रसाद कुशवाहा सामग्र उत्थान पार्टी के  पूर्व प्रत्याशी शिवकुमार बाबा मिश्रा समाजसेवी ज्ञानेंद्र गौतम समाजसेवी विश्वनाथ पटेल चोटीवाला  ने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट में कोविड-19 के खिलाफ जंग लड़ रहे चिकित्सकों को वेतन दिए जाने एवं सुरक्षा के इंतजाम मुहैया कराए जाने को लेकर याचिका प्रस्तुत की गई थी जिस पर माननीय सुप्रीम  कोर्ट में केंद्र सरकार की तरफ से पक्ष रखते सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता  ने कहा कि चिकित्सक अपनी सुरक्षा स्वयं करें सरकार से बार-बार गुहार न लगाएं नेताओं ने सरकार की  इस गैर जिम्मेदाराना दलील की कड़ी निंदा करते हुए कहां की  सरकार रातो रात सांसदों का वेतन बढ़ाने प्रस्ताव पारित कर लेती है चिकित्सकों  को वेतन देने पैसे नहीं हैं शर्म आनी चाहिए  सरकार अपने हर जिम्मेदारी से इस वैश्विक महामारी संकट में भागती नजर आ रही है  डॉक्टरों को कई महीनों का वेतन नहीं दिया गया बिना सुरक्षा इंतजाम के 8 से 10 घंटे सेवाएं दे रहे हैं चिकित्सक एवं नर्सों की लगातार मौतें हो रही हैं सरकार उनकी सुरक्षा नहीं कर पा  रही सरकार फूलवर्षा  एवं ताली थाली घंटी बजवाकर  देश के लोगों को  दिग्भ्रमित कर रही है देश का निर्माण करता मजदूर  भूख प्यास एवं रेल की पटरी से  कटकर मर रहा है  किसान आत्महत्या कर रहा है महामारी सेवा में लगे जवान मर रहे हैं लेकिन सरकार को धन बल के बल पर पूरे देश में मात्र सत्ता हथियाने की चिंता है आपदा का समूचा पैसा  पीएम केयर्स फंड में जमा कराकर  देश के लोकतंत्र को लूटतंत्र में बदल दिया गया है आज हर काम के लिए  सरकार अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है  बार- बार  सुप्रीम कोर्ट  एवं उच्च न्यायालय  सरकार को निर्देशित एवं कर्तव्य बोध  करा रहे है जो दुर्भाग्यपूर्ण है आज सरकार से देश  का प्रत्येक नागरिक अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है  इस संबंध में  न्यायपालिका ने  कड़े शब्दों में  सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि  इंसानों के साथ  जानवरों से बदतर व्यवहार किया जा रहा है  लाशें कचरे के ढेर में मिल  रही है  जो बेहद चिंताजनक है डॉक्टरों की याचिका के संबंध में भी  माननीय सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि युद्ध के दौरान आप सैनिकों को नाराज मत करें उनके समस्याओं के निदान हेतु कुछ अतिरिक्त धन की व्यवस्था करें इसके बावजूद भी  सरकार पूरी तरह  अकरमंड एवं दिशाहीन हो चुकी है आज देश की  जनता को कोरोना से नहीं सरकार से  खतरा ज्यादा है सरकार के इस  निकम्मेपन का जवाब देश की जनता को देना चाहिए नेताओं ने यह भी कहा कि जो सरकार चिकित्सक मजदूर देश के नागरिकों की सुरक्षा नहीं कर सकती तो उसे नैतिकता के आधार पर एक  पल भी  सत्ता में रहने का अधिकार नहीं है उसे तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए

                   
             शिव सिंह एडवोकेट
प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेक्यूलर मध्य प्रदेश
Share To:

Post A Comment: