सिरमौर सिविल अस्पताल के नक्शे को विधायक ने जनहित में  अस्वीकार कर दबाव में फिर किया स्वीकार... शिव सिंह

कलयुग की कलम 

रीवा 18 जून 2020.. जनता दल सेक्यूलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने बताया कि सिरमौर  विधायक ने ढाई वर्ष पूर्व 50 बिस्तरों का सिविल हॉस्पिटल सिरमौर नगर परिषद क्षेत्र में मंजूर कराया था उक्त हॉस्पिटल निर्माण के संबंध में बीएमओ डीपी पांडे तथा निर्माण एजेंसी एवं इंजीनियरों ने मिलकर वर्तमान हालातों एवं  स्थानीय सुविधाओं को नजरअंदाज करते हुए विधायक एवं जनमत की राय लिए बिना हॉस्पिटल के लिए 80-36  मीटर का जो नक्शा तैयार किया था उक्त नक्शे के आधार पर चचाई रोड तरफ से जो सड़क हॉस्पिटल को जाता है वह सड़क हॉस्पिटल के नाम नहीं है  तथा हॉस्पिटल का नक्शा  10 फीट सड़क को बंद करता है उक्त सड़क मार्ग बंद होने से वार्ड क्रमांक 3 8 9 10 11 के रहवासियों का आवागमन बंद हो जाएगा ऐसी  स्थिति में कन्या विद्यालय की ओर से जो रास्ता जाता है वह भी कन्या विद्यालय की भूमि है जो कभी भी बंद की जा सकती है यही सड़क चचाई रोड की तरफ से न्यायालय को भी जोड़ती है जिससे आवागमन बाधित होगा ऐसे में उक्त मार्ग  बंद  हो जाने से न्यायालय के मुख्य सड़क मार्ग पर काफी दबाव बढ़ेगा जहां न्यायाधीशों के आवास भी हैं  जो शांत क्षेत्र घोषित है वहां भीड़ भाड़ से  माहौल खराब होगा श्री सिंह ने यह भी बताया कि वर्तमान में उक्त नक्शे क्षेत्र में एक्सरे कंप्यूटर वैक्सीन कक्ष है तथा दवाई स्टोर के साथ-साथ मीटिंग हॉल एवं शासकीय रहायसी आवास भी मौजूद हैं इन कठिनाइयों एवं परेशानी से नगर वासियों ने विधायक को जब अवगत कराया  तब विधायक ने जनता की समस्याओं एवं  शासकीय बाधाओं को देखते हुए सीएमओ ठेकेदार इंजीनियर एसडीएम तहसीलदार व नगर वासियों की मीटिंग बुलाकर बीएमओ व अन्य  को फटकार लगाते हुए उक्त नक्शे को नामंजूर करते हुए पूर्व नक्शे के पास से लगी भूमि जो सिरमौर जयस्तंभ से डभौरा की ओर जाने वाले सड़क मार्ग के पास मौजूद है   जिसमें वन विभाग की चौकी थी जो  राजस्व की जमीन पर बनी थी  वर्तमान में वन चौकी शहर के बाहर निर्मित हो चुकी है की भूमि का निरीक्षण कर तहसीलदार एवं एसडीएम को नाप एवं सीमांकन के लिए निर्देशित किया था उक्त पुरानी चौकी  से लगे जो भी शासकीय आवास थे जर्जर होकर गिर चुके हैं सिर्फ वर्तमान में  बीएमओ आवास मात्र मौजूद है  तहसीलदार द्वारा  नवीन भूमि  की नाप कराई गई जहां लगभग   85=46 मीटर भूमि मौजूद मिली जो पूर्व नक्शे से अधिक है तब इंजीनियर खरे से बात करके स्थानीय विधायक ने पूर्व नक्शे मुताबिक  कराए जाने वाले हॉस्पिटल निर्माण को पूरी तरह रोके जाने  के लिए निर्देशित किया था  इसके बाद विधायक ने  दबाव बस पुनः पूर्व नक्शे मुताबिक हॉस्पिटल बनाए जाने की सहमति दे दी है  विधायक का उक्त निर्णय सिरमौर नगर परिषद में निवासरत जनमानस की सुख-सुविधाओं का हनन है यदि विधायक एवं शासन प्रशासन ने जनहित में निर्णय नहीं लिया तो आंदोलन प्रदर्शन के साथ-साथ प्रकरण माननीय उच्च न्यायालय में दायर किया जाएगा जिसकी  जिम्मेदारी स्थानीय विधायक एवं शासन प्रशासन की होगी

                   
             शिव सिंह एडवोकेट
 प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेक्यूलर मध्य प्रदेश



Share To:

Post A Comment: