सरकार चीन से व्यापारिक संबंध खत्म कर बदला नहीं लिया तो समझो बड़ी साजिश.. शिव सिंह

मध्य प्रदेश 19 जून 2020.. जनता दल सेक्यूलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने चीन हमले में शहीद सेना के वीर जवानों को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि आज पूरा देश अपने सेना के शौर्य पराक्रम साहस पर गर्व करता है लेकिन सरकार पर नहीं क्योंकि सरकार ने अभी तक चीन को किसी भी तरह का करारा जवाब नहीं दिया आज समूचा देश सीमा सुरक्षा को लेकर चिंतित है अभी तक सरहद के सैनिकों की शहादत का जवाब एक के बदले 10 हो जाना चाहिए था भले ही महाराणा प्रताप की तरह तकलीफ मुसीबतें झेलकर घास की रोटियां क्यों न खाना पड़े लेकिन चीन से व्यापारिक संबंध खत्म होने चाहिए क्योंकि 1962 से लगातार चीन देश को व्यापक नुकसान पहुंचा रहा है आज दुनिया में चीन हमारा सबसे बड़ा दुश्मन है जीवन से जुड़ी  अधिकतर वस्तुएं जो चीन से खरीदी जाती हैं उन वस्तुओं के बिना हम जीना सीख लेंगे आज चीन से खरीदे गए सामान की होली जलाने मात्र से हम सफल नहीं होंगे क्योंकि उस सामान की कीमत हम पहले ही दे चुके हैं  ऐसे में हमारी ही आर्थिक क्षति होगी इसलिए हमें कूटनीतिक तरीके से चीन की अर्थव्यवस्था को कुचलने व्यवसायिक संबंध पूरी तरह से खत्म करने होंगे श्री सिंह ने कहा कि चीन के खिलाफ जवाबी हमले में देरी यह बयां कर रही है कि दोनों देश आज आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं कहीं साजिश तो नहीं है क्योंकि कोरोना महामारी की पूर्व जानकारी होने के बाद भी देश की सीमाएं सील नहीं की गई सरकार की खामियों से आज देश में कोरोना महामारी का प्रवेश हुआ उधर देश आर्थिक मंदी से जूझ ही रहा था भारत की कंपनियां कर्मचारियों की छटनी करना चाहती थी और सरकार कंपनियों के हित में श्रम कानूनों में परिवर्तन कर रही थी आज  कोरोना की आड़ में 10 करोड से अधिक नौकरिया खत्म की जा चुकी हैं देश बेरोजगारी भुखमरी आर्थिक तंगी से परेशान है कोरोना वायरस आर्थिक तंगी से हजारों लोग फांसी लगा रहे हैं ऐसे ही चाइना भी आर्थिक तंगी से जूझ रहा है इसलिए यह भी हो सकता है कि सीमा पर तनाव दोनों देशों के शासकों की सुनियोजित साजिश हो क्योंकि चीन की सेना सैकड़ों किलोमीटर तक जब देश में प्रवेश कर गई  इसके बाद भी सरकार इस घटनाक्रम को छुपाती रही उधर देश के निहत्थे जवानों को आधी    रात को चीनी कैंप में भेजा गया  जब सरकार को पता था कि 2 माह से चीन भारत में घुसपैठ कर टेंट तंबू लगाकर अड्डा जमा लिया है तो सुबह भी बात हो सकती थी और जब चीनी दरिंदे हमारे निहत्थे सैनिकों को लाठी-डंडे पत्थर से मार रहे थे  उस समय भी भारतीय सैनिकों को गोली चलाने का आदेश क्यों नहीं दिया गया देश के मुखिया को स्पष्ट करना चाहिए लेकिन मुखिया की खामोशी बड़ी साजिश को जन्म देती है आज समूचा देश सरकार के निर्णय की प्रतीक्षा कर रहा है अगर सरकार चाइना से हर तरह  संबंध खत्म करने की घोषणा नहीं करती तथा वीर सैनिकों की शहादत का बदला नहीं लेती तो यह समझा जायेगा कि देश में उत्पन्न आर्थिक मंदी से ध्यान हटाने के लिए दोनों देश प्रमुखों  की बड़ी साजिश है 

                     
              शिव सिंह एडवोकेट
प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेकुलर मध्य प्रदेश
Share To:

Post A Comment: