बिना वर्दी बिना हस्ताक्षर के मझगवां  थाना क्षेत्र में कट रहे चलाना

KKK न्यूज सिहोरा रिपोर्टर इंद्र कुमार पटेल 

लॉक डाउन एवं इस संकट के दौर में  पुलिसकर्मी जहां एक ओर लोगों की मदद करने में मसीहा बने हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ पुलिसकर्मी लॉक डाउन की आड़ में चेकिंग के नाम पर  वसूली करने में लगे हुए हैं कटनी एवं जबलपुर सीमा पर बने चेक पोस्ट में मझगवां पुलिस द्वारा चेकिंग की आड़ में लोगों के चालान काटे जा रहे हैं मजाक में थाना की सीमा पर लगे देवरी गांव के चेक पोस्ट में एएसआई जयराम सैयाम एवं स्टाफ बिना वर्दी के लोगों के मनमाने चालान काट रहे हैं एवं जिनके पास चालान की राशि नहीं है तो उनसे खर्चा पानी लेकर रवाना कर रहे हैं  जबकि उच्च अधिकारियों के निर्देशानुसार सोशल डिस्टेंसिंग के तहत चालानी कार्यवाही की जा रही है लेकिन मंझगवा  पुलिस द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग छोड़कर राहगीरों से सड़क पर चलने की हर  जानकारी पूछी जा रही है और कोई भी कमी होने पर बिना हस्ताक्षर के रसीद दी जा रही है

वर्दी के लिए पूछने पर करते अपशब्द का प्रयोग

राहगीरों द्वारा जब चेक पोस्ट से निकला जाता है और उन्हें चेकिंग के लिए रोका जाता है तो राहगीर देखते हैं कि कोई व्यक्ति सादे कपड़ों में कागज  रसीद काट रहा है तो शंका की दृष्टि से जब ग्रामीण पूछते हैं तो एएसआई द्वारा उनसे अपशब्दों का प्रयोग करते हैं तू तेरा की भाषा का प्रयोग करके लोगों को जलील करते हैं मझगवां थाना में पदस्थ पुलिस कर्मी जयराम सैयाम की कार्यप्रणाली से क्षेत्र की जनता पर बहुत रोष है

बिना प्रभारी के हस्ताक्षर कटे चालान

प्रशासन की गाइडलाइन अनुसार जब भी कोई चालानी कार्रवाई की जाती है तो उसमें चालान काटने वाले अधिकारी कर्मचारी के स्पष्ट अक्षरों में हस्ताक्षर करके जिस के चालान काटे हैं उसको देना होता है लेकिन मझगवा थाने के पुलिसकर्मी द्वारा चालान में हस्ताक्षर नहीं किए जाते मात्र थाने की सील लगी होती है जिससे लोगों को शंका रहती है कि सादे कपड़े में कोई व्यक्ति वसूली तो नहीं कर रहा क्योंकि चालान में चेकिंग पॉइंट पर तैनात पुलिसकर्मी द्वारा हस्ताक्षर नहीं किए जाते हैं मझगवां थाना क्षेत्र की पुलिस की लचर व्यवस्था के कारण लोगों का पुलिस के प्रति रोष है 

शोभना मरावी एसडीओपी सिहोरा-:

पुलिस को वर्दी में ही पूरी ड्यूटी करनी  चाहिए चालानी कार्रवाई के दौरान भी वर्दी पहनना चाहिए और चालान में हस्ताक्षर करना चाहिए देवरी चेक पोस्ट में अगर चालान में हस्ताक्षर नहीं किए गए ना ही वर्दी में पुलिसकर्मी थे तो हम दिखवाते हैं

Share To:

Post A Comment: