“लॉकडाउन पीरियड में दुगनी राशि के बिजली बिल में घरेलू और व्यवसायिक कनेक्शन में 1/- भी माफ नही”

“मुख्यमंत्री ने शब्दों और ऑंकडो का मायाजाल बनाकर जनता को धोखा दिया”

“मुख्यमंत्री के बिजली बिल छूट के बयान और विज्ञापन धोखाधड़ी की श्रेणी में आते”

कलयुग की कलम 

इन्दौर,बिजली बिलों की माफ़ी के नाम प्र मुख्यमंत्री ने म.प्र. की जनता को ठगने का काम किया हैं।लॉकडाउन पीरियड अप्रेल -मई -जून -जुलाई का एक रूपया भी माफ नही होगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान म.प्र. की जनता से खुलेआम झुठ बोल रहे हैं।झुठा प्रचार कर रहे हैं की बिजली के बिलो में राहत दी गई हैं।

म.प्र. कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने बताया की मुख्यमंत्री ने झुठे विज्ञापन बनाकर जनसम्पर्क की साइड पर पोस्ट किये हैं।सारे ऑंकडे फ़र्ज़ी और बोगस हैं ग़रीब व्यक्ति से लेकर संबल योजना तथा मध्यमवर्गीय एंव व्यवसायिक एंव औघोगिक बिजली उपभोक्ताओं का 1/- भी बिजली बिल माफ नही किया गया हैं।लॉकडाउन पीरियड में बिजली विभाग द्वारा दिये गये दुगनी राशि के बिल किश्तों में जमा करना हैं।ये किश्तें भी ग़रीब वर्ग को बिजली विभाग कर रहा हैं।जबकि मध्यमवर्गीय परिवारों को तत्काल बिजली बिल का भूगतान करना हैं।वरना तत्काल बिजली कनेक्शन काटा जा रहा हैं।

कमलनाथ सरकार में इंदिरा ज्योति योजना के साफ्टवेयर में बिजली बिल छूट का प्रावधान था जिसकी वजह से जनता को सही बिल छूट सहित मिलते थे लेकिन शिवराज सरकार ने साफ्टवेयर का ही परिवर्तन करा दिया हैं जिससे बिजली बिलों पर छूट मिलने का प्रावधान ही इस बदले गये साफ्टवेयर में नहीं हैं।इसका साफ़ मतलब हैं की शिवराज सरकार अप्रेल एंव मई के बिजली बिलों में एक रुपया भी माफ़ नहीं करके ज़्यादा बिलों को किश्तों में वसूल रही हैं।यह कोरोना महामारी में शिवराज सरकार का ज़ोरदार तमाचा हैं जनता के लिए।

कमलनाथ सरकार में उपभोक्ताओं के अगर 500/- बिल आते थे तो लॉकडाउन पीरियड में प्रतिमाह 1500/ से 1800/- के बिल बिजली विभाग ने दिये हैं।इससे साफ स्पष्ट हैं की बिजली बिल में किसी भी श्रेणी के उपभोक्ता का बिजली बिल 1/ रूपया भी माफ नही किया गया हैं।मुख्यमंत्री लगातार खुलेआम झुठ बोल रहे हैं।

लॉकडाउन में दुगनी राशि के बिल की राशि को माफ करने की जगह जनता से किश्तों मे दुगने बिल का राशि लूटने की योजना मुख्यमंत्री ने बनाकर जनता को धोखा देने की कोशिश की हैं।लेकिन कॉंग्रेस ऐसी किसी भी कोशिश को सफल नही होने देगी।जनता को लुटने वाले मुख्यमंत्री को जनता आने वाले उपचुनाव में करारा जवाब देगी।लॉकडाउन में कालाबाज़ारी की लूट करने के बाद बिजली बिलो के नाम पर किश्तों में अवैध बिल राशि वसुलने की गोलमाल योजना 

लाकर मुख्यमंत्री जनता को लूटने जा रहे हैं।यह म.प्र. की जनता के साथ अन्याय हैं।


राकेश सिंह यादव

प्रदेशसचिव 

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी

भोपाल


Share To:

Post A Comment: