शिवराज सरकार की नाकामी से हजारों टन गेहूं बर्बाद.. शिव सिंह

जिम्मेदार अधिकारियों  पर मुकदमे पंजीबद्ध कर वसूल की जाए राशि

कलयुग की कलम 

 रीवा 5 जून 2020.. जनता दल सेक्युलर के प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने कहा कि वर्तमान में हो रही भीषण बारिश से जिले सहित प्रदेश  भर में कई जिलों के गेहूं खरीदी केंद्रों मैं बिना सुरक्षा इंतजाम के खुले स्थान में रखा हजारों टन गेहूं जलमग्न हो कर बर्बाद हो गया जो शिवराज सरकार की नाकामी का परिणाम है श्री सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार ने प्रत्येक खरीदी केंद्रों को 5 से 10 लाख रुपए खरीदे गए गेहूं को  सुरक्षित रखने  तिरपाल खरीदने एवं किसानों को खरीदी केंद्रों में जलपान एवं ठहरने की व्यवस्था हेतु आवंटित किया था लेकिन अधिकारी उक्त रकम को पूरी तरह से हजम कर गए उन्होंने न तो खरीदे गए गेहूं को ढकने की कोई व्यवस्था किया न ही किसानों को कोई सुविधाएं प्रदान की जिसके चलते खुले आसमान में रखा हजारों टन गेहूं जल मग्न होकर सड़ रहा है तथा जिन ठेकेदारों को जिला स्तर पर खरीदी केंद्रों से वेयरहाउस तक वाहन के माध्यम से गेहूं पहुंचाने ठेका दिया गया था उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों से सांठगांठ कर समय रहते गेहूं को सुरक्षित नहीं कराया जिसके चलते करोड़ों की कीमत का गेहूं बर्बाद हो गया यही हाल धान खरीदी में भी रहा करोड़ों का धान खुले स्थान में पड़े पड़े दो-तीन माह से लगातार हो रही बारिश से सड़ गया लेकिन सीएम शिवराज सिंह एवं उनके नुमाइंदे शराब बिक्री कराने एवं उप चुनाव की तैयारी करने में लगे हुए हैं उन्हें किसान की चिंता नहीं है  किसान बेचारा अपने खून पसीने से पैदा की हुई फसल को ऐसी हालत में देखकर काफी पीड़ा व कष्ट महसूस कर रहा है सरकार के लोगों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि जिस तरह मां के पेट से बच्चा पैदा होता है तथा जनता के वोट से नेता पैदा होता है उसी तरह किसान के खेत व उसके खून पसीने की मेहनत से अनाज पैदा होता है आज इस महामारी संकट में गरीब उसी  दाने दाने को मोहताज है आज सिर्फ देश के हर कोने कोने से एक ही आवाज आ रही है हमें रोटी चाहिए लेकिन बेशर्म सरकार को किसान के अन्य की तनिक भी चिंता नहीं है बाद में यही सरकार सड़े गले अनाज को प्राकृतिक आपदाओं एवं गरीबों की योजनाओं के तहत वितरित करती हैं जिससे गरीब मौत का शिकार होते हैं सरकार का ऐसा कृत्य बेहद निंदनीय चिंताजनक है श्री सिंह ने सरकार को आगाह करते हुए कहा कि गेहूं खरीदी केंद्र प्रमुखों एवं दोषी अधिकारियों कर्मचारियों के खिलाफ शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाए जाने के आरोप में उनके विरुद्ध आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध कराकर अनाज नुकसानी  की छति राशि दोषियों से वसूल करने की कार्यवाही करें अन्यथा यह समझा जाएगा कि सरकार एवं जिम्मेदार अधिकारियों का आपराधिक गठबंधन है 

                 
          शिव सिंह एडवोकेट
प्रदेश अध्यक्ष जनता दल सेक्युलर मध्य प्रदेश


Share To:

Post A Comment: