“प्रधानमंत्री के दावे खोखले और ग़ैरज़िम्मेदारना संबोधन से देश को निराशा”

“पीएम का प्रधानमंत्री ग़रीब कल्याण योजना से 80 करोड़ परिवारों की मदद के दावों का आँकड़ा झुठा”

“बिहार चुनाव के लिए फ़र्ज़ी घोषणा जिसका वास्तविकता से नाता नही”

कलयुग की कलम 

इन्दौर,देश के प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम संबंधित करते हुए करते हुए भ्रमित दावे  करके देश के गुमराह करने का प्रयास किया हैं।

पीएम द्वारा प्रधानमंत्री ग़रीब कल्याण योजना के अन्तर्गत पिछले तीन माह में 80 करोड़ परिवारों के व्यक्तियों को पॉंच किलो चावल एंव पॉंच किलो गेहूं एंव एक किलो चावल भी दिये गये।इसका मतलब यह हैं की सामान्य तौर पर एक परिवार तीन व्यक्तियों का कम से कम होता हैं।इस हिसाब से पीएम के अनुसार 80 करोड़ परिवारों को मदद की गयी।इसका मतलब एक परिवार में तीन व्यक्ति हैं तो कुल संख्या जिनकी पीएम ने प्रधानमंत्री ग़रीब कल्याण योजना में मदद की हैं वह 240 करोड़ होता हैं।

अब सवाल यह हैं की भारत की जनसंख्या ही पीएम खुद ही 130 करोड़ बता रहे हैं तो क्या बाक़ी 110 करोड़ बांग्लादेश,पाकिस्तान,नेपाल के नागरिकों की भी मदद की हैं..?

साफ स्पष्ट हैं की पीएम का दावा झुठा एंव तथ्यों के विपरीत हैं।

पीएम के दावे के अनुसार 20 करोड़ परिवारों को पिछले तीन माह में इन लोगों के जनधन खाते में 31 हज़ार करोड़ सीधे एकाउन्ट में दिये हैं।इस दावे की हक़ीक़त यह हैं की एक परिवार में तीन व्यक्तियों को लाभार्थी माने तो कुल लाभार्थी जनधन खाते के 60 करोड़ होते हैं।इसका मतलब प्रत्येक के खाते में  इक्त्तीस हज़ार करोड़ की राशि के अनुसार प्रति खाता धारक को जनधन खाते में 516.66 /- रूपये प्राप्त हुए हैं जबकि हक़ीक़त में यह पैसा खातो में आया ही नही हैं कही किसी खाता धारक को 500/- आये हैं लेकिन लगभग चालीस करोड़ खाता धारकों के खातो में एक रूपया भी नही आया हैं ।ऐसे अनेक उदाहरण देश में मौजूद हैं जहॉं एक एक रूपये के लिए ग़रीबों को भीख मॉंगने को मजबूर होना पड़ा।सवाल यह भी की मात्र 516.66/- रूपये में एक ग़रीब तीन महीने कैसे ज़िंदा रह सकता हैं।

यह दावा भी पीएम का बोगस एंव झुठा साबित हुआ हैं।

इसी प्रकार पीएम ने संबोधन में दावा किया की किसानों के खातो में सीधे 18 हज़ार करोड़ की राशि नौ करोड़ किसानों के खातो में सीधी जमा की गई ।इसका सीधा मतलब हैं की प्रत्येक किसान के खाते में       2000/- रूपयो की राशि जमा की गई।जबकि हक़ीक़त में कुछ ही किसानों के खातो में यह राशि पहुँची हैं जबकि देश के लगभग पॉंच करोड़ किसानों के खातो में राशि नही पहुँची हैं।पीएम का यह दावा भी ज़मीनी तथ्यों से विपरीत हैं ।अनेक ज़मीनी सर्वे मौजुद हैं जो पीएम के बताये ऑंकडो को झुठा साबित कर रहे हैं।

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने आरोप लगाया हैं की पीएम फ़र्ज़ी एंव बोगस ऑंकडो का मायाजाल में उलझा कर देश की जनता का ध्यान मूल समस्याओं से हटाकर सिर्फ चुनाव जीतने की तैयारी कर रहे हैं।सारा देश चीन के हमले एंव ज़मीन पर क़ब्ज़े के बाद अपमानित महसूस कर रहा हैं लेकिन पीएम चीन के इतने दबाव में हैं की एक शब्द भी बोल नही रहे हैं।पीएम ने देश का प्रजातंत्र और आज़ादी को ख़तरे में पहुँचा दिया हैं।इसका जवाब भाजपा और पीएम से जनता जानना चाहती हैं।

राकेश सिंह यादव
प्रदेशसचिव
म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी
भोपाल
Share To:

Post A Comment: