“शिवराज सरकार का मैनेजमेंट भी अपराधी विकास दूबे को एन्काउन्टर से नही बचा पाया”

“यूपी सीएम योगी ने फ़र्ज़ी एन्काउन्टर कराकर सच छिपाने की कोशिश “

“अपराधी से क़ानून अनुसार पूछताछ होती तो भाजपा नेताओं के काले कारनामे खुलते”

इन्दौर म.प्र. की शिवराज सरकार का मैनेजमेंट भी अपराधी विकास दूबे को फ़र्ज़ी एन्काउन्टर से बचा नही सके।

यूपी सीएम ने सच सामने नही आये इसलिए अपराधी विकास दूबे का सुनियोजित फ़र्ज़ी एन्काउन्टर करके भाजपा के काले कारनामो को संरक्षण देने वाले नेताओं के नाम सामने अब कभी नही आ पायेंगे ।

भाजपा को डर था की अगर विकास दूबे मुँह खोलेगा तो भाजपा के अनेक नेता जेल में नज़र आयेंगे ।लेकिन सीएम योगी ने सारे मामले को दबाने के लिए विकास दूबे का फ़र्ज़ी एन्काउन्टर कराया गया।

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने मॉंग की हैं की अपराधी विकास दूबे द्वारा म.प्र. में आत्मसमर्पण एंव कानपुर के पास फ़र्ज़ी एन्काउन्टर की जॉंच सीबीआई से कराना चाहिए जिससे की यह स्पष्ट हो सके की म.प्र. में भाजपा के कौन से नेता थे जिन्होंने आत्मसमर्पण कराने में विशेष भूमिका निभाई एंव फ़र्ज़ी एन्काउन्टर के ज़रिये विकास दूबे को मारकर योगी सरकार ने भाजपा के कड़वे सच को छिपाने की नाकाम कोशिश की हैं।


राकेश सिंह यादव
प्रदेशसचिव
म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी
भोपाल
Share To:

Post A Comment: