गर्दन और गले में धारदार हथियारों के मिले निशान,मामले की जांच में जुटी पुलिस 

कलयुग की कलम रिपोर्टर  (अंकित झारिया)

ढीमरखेड़ा/उमरियापान:- ढीमरखेड़ा थाना क्षेत्र के मारसिहुड़ी और महगवां देगवां के जंगल में घायलावस्था में एक युवती पड़ी मिली है। युवती की गर्दन में धारदार हथियार से हमला किया गया है। गले में भी दबोचने के निशान मिले हैं। जानकारी मिलते ही ढीमरखेड़ा पुलिस स्टॉप के साथ एसडीओपी प्रमोद सारस्वत,प्रभारी  तहसीलदार हरिसिंह धुर्वे मौके पर जंगल पहुँचकर घटना स्थल का जायजा लिया है।शाम को जिले से एफएसएल टीम भी घटनास्थल पर पहुँची। पुलिस मामले की जांच कर रही है। हालांकि घटना के बाद युवती को बेहोश कर उसकी हत्या करने की साजिश रची गई लेकिन वह विफल हो गई है।

एसआई सीताराम बागरी ने बताया कि थाना क्षेत्र के मारसिहुड़ी और महगवां देगवां के जंगल में एक आदिवासी युवती के घायलावस्था में पड़े होने की सूचना मिली थी। मौके पर घटना स्थल पर पहुँचकर घायलावस्था में पड़ी युवती को उमरियापान अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया। प्राथमिक उपचार डॉक्टरों ने युवती को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया है।पुलिस की पूछताछ में युवती ने बताया कि वह जबलपुर जिले के पाटन थाना क्षेत्र मादा गांव की रहने वाली है। 4 साल से बेलखेड़ा थाना क्षेत्र के मनखेडी गांव के भूपेंद्र पटेल से प्रेमसंबंध है। मई के महीने में भूपेंद्र पटेल ने आदिवासी युवती से एक मंदिर में विवाह किया था।युवती गर्भावस्था में भी है। युवती ने पुलिस को बताया कि उसका पति भूपेंद्र शुक्रवार शाम 4 बजे के करीब उससे घूमकर आने की बात कही। साथ में एक अन्य युवक भी आया था।तीनों लोग रात को ढीमरखेड़ा थाना क्षेत्र के जंगली क्षेत्र में पहुँच गए।युवती को दोनों युवकों ने कुछ पिलाया ,वह बेहोश हो गई।उसके बाद युवती के साथ क्या हुआ युवती को इसकी जानकारी नहीं है।घटना स्थल पर पुलिस को युवती के गर्दन में धारदार हथियारों के निशान के साथ गले दबाने के निशान भी बने मिले हैं।घटनास्थल पर युवती की चप्पल, फूटी चूड़ियां और कुछ कपड़े भी मिले हैं। जिसे पुलिस ने जब्त किया है।देरशाम ढीमरखेड़ा पुलिस जबलपुर के लिए रवाना भी हो गई है।



Share To:

Post A Comment: